मंगलवार, 23 फ़रवरी 2010

प्लग-इन्स Plugins – कोड इग्नाइटर

प्लग इन्स लगभग हेल्परों की तरह काम करते हैं. प्लग इन में मुख्य अंतर यह है कि ये सामान्यत: केवल एक ही फ़ंग्शन उपलब्ध कराते हैं, जबकि हेल्पर फ़ंग्शनों का समूह होते हैं.

प्लग इन्स को system/plugins डायरेक्ट्री में सुरक्षित किया जाना चाहिये अथवा आप application फ़ोल्डर के अंदर plugins नाम का फ़ोल्डर बना सकते हैं. कोड इग्निटर सबसे पहले system/application/plugins डायरेक्ट्री में प्लग इन्स को ढूंढ़ता है. यदि यह डायरेक्ट्री नही मिलती या प्लग इन नही मिलता तो यह system/plugins फ़ोल्डर में प्लग इन को ढूंढ़ता है.

प्लग इन को लोड करना

किसी प्लग इन को निम्न लिखित फ़ंग्शन के द्वारा लोड किया जा सकता है.

$this->load->plugin('name');

यहां name बिना php एक्सटेंशन के तथा बिना _pi हिस्से के आपके प्लग इन का नाम है.

उदाहरण के लिये Captcha प्लगइन जिसका नाम captcha_pi.php को लोड करने के लिये, आपको यह करना पडे़गा.

किसी प्लग इन को आपके कंट्रोलर के भीतर कहीं भी लोड किया जा सकता है(यहां तक कि व्यू में भी, यद्यपि ऐसा करना ठीक तरीका नही है.), जब तक कि आप उसे उपयोग करने से पहले लोड करें. आप अपने प्लग इन को अपने कंट्रोलर के कंस्ट्रक्टर में लोड कर सकते हैं ताकि वह आपके किसी भी फ़ंग्शन में उपलब्ध हो जाये, या आप उसे उस फ़ंग्शन में लोड कर सकते हैं जिसमें उसकी जरूरत हो.

नोट: प्लग इन लोडिंग फ़ंग्शन कोई मान नही देता है अत: इसे किसी वैरिएबल में निर्दिष्ट ना करें. इन्हे जैसा दिखाया गया है वैसा ही उपयोग करें.

एक साथ एक से अधिक प्लगइनों को लोड करना

यदि आपको एक साथ एक से अधिक प्लग इन लोड करने की जरूरत हो तो आप उन्हे एक एरे में लिख सकते हैं, जैसे:

$this->load->plugin( array('plugin1', 'plugin2', 'plugin3') );

प्लग इन्स को स्वत: लोड करना

यदि आपको लगता है कि कोई विशेष प्लग इन पूरे अनुप्रयोग में उपयोग किया जायेगा तो आप कोड इग्निटर को उसे स्वत: लोड करने के लिये कह सकते हैं. ऐसा करने के लिये application/config/autoload.php फ़ाइल खोलकर मैं आटोलोड एरे में उस प्लग इन का नाम भरना होगा.

प्लग इन का उपयोग करना

एक बार जब आप प्लग इन लोड कर लेते हैं तो आप इसे किसी भी ठेठ PHP फ़ंग्शन की तरह पुकार सकते हैं.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लाग में प्रकाशित सामग्री कापीराईट द्वारा सुरक्षित है. बिना अनुमति इसका किसी भी प्रकार से अन्यत्र प्रयोग/प्रकाशन मूल रूप में/बदल कर उपयोग नही किया जा सकता है.

हिंदी में तकनीकी लेखन को प्रोत्साहित करें

please donate अभी तक वेब डेवलपमेंट अथवा प्रोग्रामिंग आदि से संबंधित जानकारी पर अंग्रेजी का एकाधिकार रहा है. भारत में इतने आई टी गुरू होने के बावजूद भारतीय भाषाओं में इस विषय पर लेखन नगण्य है. इस ब्लाग के माध्यम से मैं हिन्दी भाषिओं तक वेब डेवलपमेंट का ज्ञान पहुंचाने की कोशिश कर रहा हूं. अत: आप सभी से अनुरोध है कि हिंदी में तकनीकी लेखन के लिये सहयोग करें
मैं वेबसाइटें भी बनाता हूं. यदि आपको बनवानी हो तो बताएं.

ARCHIVES

इस ब्लॉग में खोजें

समर्थक