मंगलवार, 23 फ़रवरी 2010

आम फ़ंग्शन – कोड इग्नाइटर

कोड इग्निटर कुछ सर्वभौमिक रूप से पारिभाषित फ़ंग्शनों का प्रयोग करता है. ये फ़ंग्शन आपको किसी भी बिंदू पर उपलब्ध होते हैं. इन्हे उपयोग करने के लिये किसी लाइब्रेरी या हेल्पर को लोड करने की जरूरत नही पड़ती है.

is_really_writable('path/to/file')

विंडोज सर्वरों में is_writable() उस वक्त भी TRUE ही उतर देगा जबकि आप असल में फ़ाइलों को ना लिख पायेंगे. ऐसा इसलिये क्योंकि आपरेटिंग सिस्टम पीएचपी को FALSE उत्तर तभी देता है जब "Read Only" attribute को चिन्हित किया जाये. यह फ़ंग्शन किसी फ़ाइल में लिखने का प्रयास करके इस बात को पता करता है कि वह फ़ाइल वाकई में लिखने योग्य है भी या नही. सामान्यत: इसे उन्ही प्लेटफ़ार्मों में उपयोग करना चाहिये जहां यह जानकारी भरोसेमंद ना हो.

if (is_really_writable('file.txt'))
{
    echo "I could write to this if I wanted to";
}
else
{
    echo "File is not writable";
}

config_item('item_key')

विन्यास (कांफ़िगरेशन) संबंधी सूचना को हासिल करने के लिये Config library को वरीयता दी जाती है, यद्यपि config_item() को एकल कुंजियों को प्राप्त करने के लिये उपयोग किया जा सकता है. अधिक जानकारी के लिये कांफ़िग लाइब्रेरी का दस्तावेज देखें.

show_error('message'), show_404('page'), log_message('level', 'message')

इनमें से प्रत्येक के बारे में Error Handling पेज में विवरण दिया गया है.

1 टिप्पणी:

  1. मुझे वेबसाइट बनवानी है..........मैंने आपके gमेल पर मेल किया है कृपया संपर्क करें

    उत्तर देंहटाएं

इस ब्लाग में प्रकाशित सामग्री कापीराईट द्वारा सुरक्षित है. बिना अनुमति इसका किसी भी प्रकार से अन्यत्र प्रयोग/प्रकाशन मूल रूप में/बदल कर उपयोग नही किया जा सकता है.

हिंदी में तकनीकी लेखन को प्रोत्साहित करें

please donate अभी तक वेब डेवलपमेंट अथवा प्रोग्रामिंग आदि से संबंधित जानकारी पर अंग्रेजी का एकाधिकार रहा है. भारत में इतने आई टी गुरू होने के बावजूद भारतीय भाषाओं में इस विषय पर लेखन नगण्य है. इस ब्लाग के माध्यम से मैं हिन्दी भाषिओं तक वेब डेवलपमेंट का ज्ञान पहुंचाने की कोशिश कर रहा हूं. अत: आप सभी से अनुरोध है कि हिंदी में तकनीकी लेखन के लिये सहयोग करें
मैं वेबसाइटें भी बनाता हूं. यदि आपको बनवानी हो तो बताएं.

ARCHIVES

इस ब्लॉग में खोजें

समर्थक